Home हिंदी हेल्प

एक्यूप्रेशर पॉइंट से जुड़ा सम्पूर्ण ज्ञान (चार्ट, फायदे, इमेज, हाथ और पैर में) Acupressure Points in Hindi

हाथ पैरों में एक्यूप्रेशर पॉइंट | कामेच्छा बढ़ाने के लिए ये है 2 एक्यूप्रेशर पॉइंट | एक्यूप्रेशर के नुकसान और फायदे | कब्ज के लिए एक्यूप्रेशर पॉइंट | खांसी के लिए एक्यूप्रेशर पॉइंट | आयुर्वेदिक एक्यूप्रेशर | हार्ट के लिए एक्यूप्रेशर पॉइंट | एक्यूप्रेशर पॉइंट सिर दर्द के लिए |

नमस्कार दोस्तों हमारे देश में स्वास्थ्य संबंधी समस्या से निजात पाने के लिए सदियों से अलग-अलग तकनीक का इस्तेमाल भारत देश में किया जाता आ रहा है। इन्हीं में से एक एक्यूप्रेशर (Acupressure) भी मुख्य तरीका है। यह एक हीलिंग आर्ट है।

इसका इस्तेमाल हजारों वर्षों से चीन में किया जा रहा है। इसे भारत में भी किया जाता है। एक्यूप्रेशर के माध्यम से शरीर में कुछ खास पॉइंट पर प्रेशर डाला जाता है जिससे कि प्वाइंट्स को दबाने से शरीर में हो रही तकलीफों से छुटकारा पाया जा सकता है।

मनुष्य के शरीर में कुछ एक्यूप्रेशर पॉइंट्स हाथों में तथा पैरों में भी होते हैं। आज इस पोस्ट में हम एक्यूप्रेशर पॉइंट (Acupressure Points) से संबंधित आपको लगभग सभी प्रकार की जानकारी जैसे- एक्यूप्रेशर पॉइंट के फायदे एक्यूप्रेशर पॉइंट हाथ और पैर में कहाँ-कहाँ होते हैं? एक्यूप्रेशर पॉइंट के माध्यम से किन-किन समस्याओं का इलाज किया जाता है। आदि संबंधित सभी प्रकार की जानकारी आपको मिलने वाली है इसलिए इस आर्टिकल को पूरा अंत तक पढ़िए।

एक्यूप्रेशर पॉइंट
 [hide]

एक्यूप्रेशर पॉइंट या एक्यूप्वाइंट क्या है?

अगर आप नहीं जानते हैं कि एक्यूप्रेशर पॉइंट्स क्या होता है तो हम आपको बता दें कि मनुष्य के शरीर में हाथ और पैरों में कुछ ऐसे निश्चित बिंदु होते हैं इन बिंदुओं का संपर्क सीधे शरीर के विभिन्न अंगों जैसे आंखें, दिमाग, कान, नाक, हृदय, किडनी जैसे समस्त अंगों से होता है। जब भी किसी व्यक्ति को इन संबंधित अंगों में या किसी अन्य स्थानों पर तकलीफ होती है तो हाथ या पर के उसे निश्चित स्थान पर प्रेशर डाला जाता है जिससे कि उसे अंग में हो रही समस्या से निजात मिल पाता है।

एक्यूप्रेशर पॉइंट से जुड़ा सम्पूर्ण ज्ञान

जिसे हम एक्यूप्रेशर पॉइंट्स के नाम से जानते हैं। मनुष्य के शरीर में लगभग सभी रोगों के नियम पाने हेतु एक्यूप्रेशर पॉइंट होते हैं जिन्हें दबाने से मनुष्य को स्वास्थ्य लाभ होता है। अगर आप नहीं जानते हैं कि शरीर में मौजूद एक्यूप्रेशर पॉइंट हाथों और पैरों में किन-किन इंसानों में होता है तो इस आर्टिकल को पढ़ना जारी रखें जिससे कि हम आपको इससे संबंधित सभी प्रकार की जानकारी उपलब्ध करवाने वाले हैं।

एक्यूप्रेशर कैसे काम करता है?

तो हम आपको शरीर में उपलब्ध एक्यूप्रेशर पॉइंट्स से संबंधित जानकारी बताने वाले हैं। सबसे पहले हम आपको बताने जा रहे हैं कि यह एक्यूप्रेशर कैसे काम करता है? तो हम आपको बता दें कि इस एक्यूप्रेशर पद्धति के माध्यम से किसी भी व्यक्ति के एक्स बिंदु पर दबाव देकर ऊर्जा में स्पंदन करके रोगों से छुटकारा पाया जाता है।

इस एक्यूप्रेशर के थेरेपी की विधि में एक्यूप्रेशर में शरीर के चित्र बिंदुओं पर दबाव देखकर इलाज किया जाता है। उसे हम एक क्यों बिंदु या एक रुपया पॉइंट्स के नाम से जानते हैं। उपचार इन बिंदुओं पर स्विच छुपा कर या कुछ नुकीली चीज चुभा कर वहां पर दर्द पैदा किया जाता है। जिससे कि इस पद्धति से किसी विशेष स्थान पर हो रहे दर्द से छुटकारा मिल पाता है।

एक्यूप्रेशर पॉइंट शरीर के कहाँ होते है?

मनुष्य के शरीर में वैसे तो एक्यूप्रेशर बिंदु शरीर के विभिन्न हिस्सों में होते हैं। लेकिन सबसे अधिक यह एक्यूप्रेशर पॉइंट हमारे हाथों और पैरों की तलवों में सबसे अधिक पाए जाते हैं। इन दोनों जगह पर शरीर के लगभग आवश्यक एक्यूप्रेशर बिंदु उपलब्ध होते हैं। शरीर के ऊपर एक्यूप्रेशर पॉइंट को बिंदु के नाम से जाना जाता है।

इस एक्यूप्रेशर उपचार में इस बिंदु के माध्यम से चिंता और तनाव करने के लिए भीतर माना जाता है। मनुष्य के शरीर में एक्यूप्रेशर पॉइंट पैरों की उंगलियों के बीच घुटनों के नीचे आंखों के बीच कलाई बाहरी कान पैरों के नीचे जैसे मुख्य स्थान पर यह उपलब्ध होते हैं।

एक्यूप्रेशर पॉइंट के फायदे

अगर आप नहीं जानती है कि एक्यूप्रेशर बिंदु दबाने से शरीर में क्या लाभ होते हैं तो हम आपको बता दें कि इससे शरीर के विभिन्न हिस्सों में कई प्रकार के लाभ प्राप्त होते हैं तो चलिए लिए जानते हैं इन फायदों के बारे में।

तो प्रेशर के माध्यम से

  • सर दर्द माइग्रेन
  • जोड़ों का दर्द जकड़न घुटनों का दर्द अर्थराइटिस से पीड़ित मरीज
  • थायराइड पाचन संबंधित समस्या
  • मस्तिक संबंधी समस्या
  • नेत्र से संबंधित समस्या
  • त्वचा संबंधी समस्या
  • हृदय संबंधी समस्या
  • दांत से संबंधित समस्या
  • कंधे, किडनी, फेफड़े आदि से संबंधित लगभग शरीर में उत्पन्न होने वाली सभी समस्याओं का समाधान इस एक्यूप्रेशर पद्धति से किया जा सकता है।
लेकिन इस पद्धति से इलाज करवाने में लोगों को कितना सटीक फायदा मिलता है या नहीं इसके बारे में कुछ कह पाना मुश्किल होता है, क्योंकि इसका फायदा शरीर में काफी धीरे-धीरे होता है।

एक्यूप्रेशर पॉइंट के नुकसान

आप अपने घर में एक्यूप्रेशर के माध्यम से इलाज करवा रहे हैं तो आपको कुछ मुख्य बातों का ध्यान में रखना बहुत आवश्यक है। एक्यूप्रेशर के फायदे तो अनेक है लेकिन इसे गलत तरीके से करने पर इसके नुकसान भी हो सकते हैं वह नुकसान कौन-कौन से हैं उसके बारे में नीचे हम आपको बता रहे हैं।

  • सबसे पहले इसका मुख्य दुष्प्रभाव यह है कि गलत बिंदुओं पर दबाव देने से आपको कई प्रकार की समस्या आ सकती है।
  • अधिक मात्रा में दबाव देने पर उसे शरीर के अंग को क्षति या फ्रैक्चर होने का खतरा होता है।
  • और गर्भावस्था के दौरान पर एक्यूप्रेशर करवाने से आपको गर्भपात जैसी समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है।
  • इसलिए हम आपको किसी भी चिकित्सा के परामर्श के द्वारा ही एक्यूप्रेशर पॉइंट को दबाने से संबंधित थेरेपी लेना चाहिए।

शरीर में मौजूद एक्‍यूप्रेशर प्‍वाइंट

हमारे शरीर में एक्यूप्रेशर पॉइंट मुखतः दो जगह पर पाए जाते हैं यह आपके हाथ के हथेली में होते हैं जिसमें आपकी उंगलियां से लेकर पूरे हथेली के हिस्से में यह पॉइंट उपलब्ध होते हैं। इसी प्रकार यह आपके पैरों में भी उपलब्ध होते हैं, जो आपकी एड़ी से लेकर आपके पैरों की उंगलियों के मध्य में भी इनके पॉइंट उपलब्ध होते हैं। नीचे हम आपको इमेज के माध्यम से हाथ और पैर में एक्यूप्रेशर पॉइंट कहां-कहां उपलब्ध होते हैं इससे संबंधित जानकारी इमेज के माध्यम से बताने जा रहे हैं।

हाथो में

हाथ में एक्यूप्रेशर पॉइंट

पैरों में

पैरो में एक्यूप्रेशर पॉइंट

हाथ और पैरों में एक्यूप्रेशर पॉइंट

हमारे शरीर में कई रोगों से जुड़े एक्यूप्रेशर पॉइंट हाथों और पैरों में उपलब्ध होते हैं। उदाहरण के लिए शरीर में सीनस का एक्यूप्रेशर बिंदु हमारे हाथों और पैरों दोनों स्थानों पर होता है वह कौनसेस्थान में होता है इसकी जानकारी हम आपको आगे बताने जा रहे हैं।

साइनस का एक्यूप्रेशर पॉइंट

अगर आप भी एक्यूप्रेशर की समस्या से परेशान है तो आप इसे तुरंत रहने पर हाथ पानी के लिए नाक और आंख के बीच का हिस्सा या फिर सर के दोनों साइड के हिस्सों को हल्के से दबे। या फिर हाथ में अंगूठे के ऊपर हलके से दबाने इन तीनों जगह पर साइनस का एक्यूप्रेशर पॉइंट उपलब्ध होता है।

दिमाग का एक्यूप्रेशर पॉइंट

दिमाग का एक्यूप्रेशर बिंदु हमारे अंगूठे के सबसे ऊंची स्थान पर होता है जैसे कि ऊपर इमेज में आपको बताया गया है। वह सर के बीचो-बीच इसी बिंदु और आपके से माथे के बीच में उपल्ब पॉइंट पर 1 मिनट तक तेज दबाने से आपके मैसेज के एक्यूप्रेशर पॉइंट पर प्रेशर पड़ता है।

सिर दर्द के लिए एक्यूप्रेशर पॉइंट

आप अगर आप सर दर्द की समस्या से परेशान है तो इससे नियत पाने के लिए आप इस स्थिति में निचले जबड़े आइब्रो और गर्दन के निचले हिस्से में एक्यूप्रेशर पॉइंट्स दबाने पर सिर में रक्त प्रवाह और ऑक्सीजन सप्लाई बढ़ाने में मदद होती है जिससे कि आपके मस्तिष्क में तनाव कम होता है और सर दर्द से राहत मिलती है।।

बालो के लिए एक्यूप्रेशर पॉइंट

जैसे कि आप सब जानते हैं कि बाल झड़ना आज के समय में एक मुख्य समस्या बन गई है। इसके लिए आप पर ही पॉइंट पर उंगली से दो से तीन मिनट तक सच ही मसाज करें। या इसके अलावा आपके नाखूनों को 3 से 5 मिनट तक आपस में लगड़ने जिससे कि आपके बालों से संबंधित समस्या से राहत मिल सकती है।

कान दर्द का एक्यूप्रेशर पॉइंट

कान के दर्द से राहत पाने के लिए आपको आपकी उंगली और अंगूठे के पिछले वाले जगह जो मुख्य बिंदु शुरू होता है उसे जगह पर आपका काम का एक्यूप्रेशर बिंदु उपलब्ध होता है। आपके जबड़े के आसपास और आपके कानों में बनने वाले दबाव को दूर करने के लिए इस बिंदु को दबाने से आपको समस्या से राहत मिल सकती है।

आंखों के लिए एक्यूप्रेशर पॉइंट

आंखों से संबंधित समस्या से निजात पाने के लिए आपको नीचे बताए गए एक्यूप्रेशर बिंदु को दबाने से इस समस्या से राहत मिल पाएगी।

  • नाक की हड्डी और आंख के बीच में
  • दोनों आंखों के बीच और नाक के ऊपर (बिंदी वाली जगह)
  • दोनों आंखों के बीच में नाक की शुरुआत के ठीक ऊपर
  • नथुनों के बाहरी तरफ
  • दोनों आंखों के बाहरी तरफ किनारों पर

दांत दर्द का एक्यूप्रेशर पॉइंट

दांतों सबसे संबंधित समस्या दांतों से संबंधित समस्या से निजात पाने के लिए आपको इन मुख्य एक्यूप्रेशर पॉइंट को दबाने से दर्द से राहत मिल सकती है नीचे इन पॉइंट्स के बारे में बता रहे जिसकी सहायता से आप दर्द से छुटकारा प्राप्त पा सकते हैं।

  • SI18 एक्यूप्रेशर प्वाइंट
  • ST6 एक्यूप्रेशर प्वाइंट 
  • LI4 एक्यूप्रेशर प्वाइंट
  • GB21 एक्यूप्रेशर प्वाइंट
  • KD 3 प्वाइंट

गला दर्द का एक्यूप्रेशर पॉइंट

यदि आपके गले से संबंधित किसी भी प्रकार की दर्द और समस्या है तो नीचे बताए गए एक्यूप्रेशर बिंदुओं को दबाए जिससे कि आप गले से संबंधित समस्या से निजात पा सकते हैं।

हथेली के किनारे की ओर फेफड़े की मध्यम रेखा अंगूठे की नोक से कलाई के पीछे हिस्से तक चलती है. रिफ्लेक्सोलॉजिस्ट के मुताबिक इस प्रेशर पॉइंट का तब इस्तेमाल कर सकते हैं, जब आपके गले में खराश हो, बार-बार छींक आए, या सर्दी से जुड़ी कोई भी परेशानी होतो।

गर्दन दर्द के लिए एक्यूप्रेशर पॉइंट

गार्डन के दर्द से छुटकारा पाने के लिए आपको कुछ मुख्य तरीकों को आजमाना होगा हो कौन-कौन से मुख्य तरीका है इसमें कुछ खास एक्यूप्रेशर बिंदु स्थित है जिसमें आप बीबी20, बीबी21, एल14 जैसे एक्यूप्रेशर पॉइंट्स को दबाकर गर्दन दर्द से छुटकारा प्राप्त कर सकते हैं।

कंधे दर्द का एक्यूप्रेशर पॉइंट

अगर आप कंधे के दर्द के समस्या से परेशान है तो हम आपको कुछ मुख्य एक्यूप्रेशर बिंदु बता रहे हैं इन एक्यूप्रेशर बिंदु में मुख्ता छोटी 83 तथा छोटी 84 के अलावा लग 9 ट्रिपल वार्मर जिसे टू 15 पॉइंट भी कहते हैं जैसे बिंदुओं को दबाने से आपको कंधे दर्द से छुटकारा मिल सकता है।

कंधे के दर्द के लिए एक्यूप्रेशर चौथी और पांचवीं उंगलियों के बीच के पोर के नीचे मौजूद होता है। कोई भी इस क्षेत्र पर दृढ़ और स्थिर दबाव से मालिश कर सकता है।

किडनी का एक्यूप्रेशर पॉइंट

हथेली के बीच और छोटी अंगुली के नीचे दबाने से लिवर और किडनी हेल्दी रहते हैं। हथेली के बीच में किडनी प्वाइंट दबाएं। पैर की छोटी अंगुली के टॉप पर 5 मिनट दबाएं। हाथ की छोटी अंगुली के टॉप में 5 मिनट दबाएं।

फेफड़े का एक्यूप्रेशर पॉइंट

आपके शरीर के स्वस्थ फेकड़े की सबसे अच्छा के लिए इन तीन एक्यूप्रेशर बिंदुओं को दबाने से आपको पेपर संबंधी समस्या से निर्यात प्राप्त हो सकती है। सबसे पहले आप अपने हाथ को हथेलियां के नीचे की ओर रखते हुए सिलाई और अंगूठे और तर्जनी के जल के बीच बने हुए जाकर को दबाए। दूसरा तरीका आपकी कलाई और हथेलियां के जोड़ के बीच हथेली के मसफल पेट पर एक बिंदु पाया जाता है। तीसरा बिंदु आपकी असली पर पाया जाता है।

इन्हें भी पड़े

एक्यूप्रेशर पॉइंट से जुड़े सवालो के जवाब

  1. एक्यूपंक्चर बिंदु कितने होते हैं?

    मनुष्य के शरीर में एक्यूप्रेशर बिंदु लगभग 2000 से अधिक पाए जाते हैं। इनमें यह बिंदु मार्ग हो या मेरिडियन से जुड़े होते हैं। यह रास्ते शरीर की मार्केट से एक ऊर्जा प्रकार और वह को बनाते हैं। जिससे कि उसे बिंदु को दबाने से शरीर में उसे स्थान विशेष स्थान में दर्द से राहत मिलती है। यह ऑक्यूपेशन हिंदू मनुष्य के हाथ पैरों के तलवे और शरीर के कुछ विशेष अंगों पर उपलब्ध होते हैं।

  2. हाई ब्लड प्रेशर के लिए प्रेशर पॉइंट कहां होता है?

    अगर आप हाई ब्लड प्रेशर या कोई और व्यक्ति की समस्या से जूझ रहा है तो मनुष्य के शरीर में कुछ विशेष एक्यूप्रेशर पॉइंट उपलब्ध होते हैं जिसे दबाने से आप ब्लड प्रेशर संबंधी समस्या से हल प्राप्त कर सकते हैं पूर्ण ग्राम यह ब्लड प्रेशर पॉइंट इन विशेष स्थान पर होते हैं।

    बाएं हाथ के अंगूठे के आगे की तरफ पॉइंट
    दाहिने हाथ की कलाई के निचले हिस्से पर
    गर्दन के पीछे पॉइंट्स
    छोटी उंगली की साइड में

  3. पेट में गैस होने पर कौन सा पॉइंट दबाए?

    ये पॉइंट कॉन्सेप्शन वेसल मेरिडियन पर स्थित होता है। इस पॉइंट में प्रेशर देने पर अपर एब्डॉमिनल ऑर्गन्स, ब्लैडर और गॉल ब्लैडर को प्रभावित करता है। ये पॉइंट नाभि के चार इंच ऊपर की ओर स्थित होता है। दो से तीन अंगुलियों को झोंगवान बिंदु पर रखें।

  4. एक्यूपंक्चर पॉइंट्स का क्या मतलब है?

    एक्यूप्रेशर (Acupressure), इलाज का एक प्राचीन तरीका है जिसमें शरीर के विभिन्न हिस्सों के महत्वपूर्ण बिंदुओं पर दबाव डालकर बीमारी को ठीक करने की कोशिश की जाती है. दरअसल, हमारे शरीर के मुख्य अंगों के दबाव केंद्र यानी प्रेशर पॉइंट्स (Pressure Points) पैरों के तलवे में और हथेलियों में होते हैं।

  5. एक्यूप्रेशर कैसे किया जाता है?

    एक्यूप्रेशर पद्धति से इलाज में एक्यू बिंदुओं पर दबाव देकर इसी ऊर्जा में स्पंदन करके रोगों को दूर किया जाता है। थेरेपी की विधियां: एक्यूप्रेशर में शरीर के जिन बिंदुओं पर दबाव देकर उपचार किया जाता है, उन्हें एक्यू प्वाइंट्स कहते हैं।

  6. मनुष्य के शरीर में कितने प्रेशर पॉइंट होते हैं?

    शरीर में कुल 365 एनर्जी पॉइंट होते हैं।

  7. एक्यूपंक्चर कितने समय तक रहता है?

    यह कितने समय तक किया जाये इसकी जानकारी होना बहुत जरूरी है। इसे 2-2 मिनट तक ही दबाना है, इसे 10 दिन तक लगातार कर सकते हैं।1

  8. एक्यूपंक्चर किसे नहीं करना चाहिए?

    यदि आपको शरीर के किसी भी भाग में सूजन है, तो एक्यूप्रेशर नहीं करना चाहिए. ऑस्टियोपोरोसिस, हाल में हुई कोई इंजरी, फ्रैक्चर हुई हो, तो भी इसे करने से बचना चाहिए. कैंसर, ब्लीडिंग डिसऑर्डर, हार्ट डिजीज, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों का उपचार एक्यूप्रेशर पद्धति से नहीं किया जा सकता है.

  9. एक्यूपंक्चर के बाद क्या नहीं करना चाहिए?

    आपको शराब, सिगरेट और ज़ोरदार गतिविधियों से बचना चाहिए। अपने एक्यूपंक्चर सत्र के बाद आराम से रहना और अपने शरीर की बात सुनना याद रखें! यदि आपका कोई प्रश्न या चिंता है, तो अपने एक्यूपंक्चर चिकित्सक से अवश्य पूछें।

निष्कर्ष

इस प्रकार से मुझे आशा है कि अब आप इस पोस्ट को पूरा पढ़कर एक्यूप्रेशर पॉइंट्स क्या है? एक्यूप्रेशर बिंदु शरीर में हाथ और पैरों में किन-किन स्थानों पर उपलब्ध होते हैं और इसके साथ-साथ किन पॉइंट्स को दबाने से शरीर के किन हिस्सों में फायदा मिलता है।

इससे संबंधित लगभग एक्यूप्रेशर बिंदु से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या है तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कीजिए ना हम आपकी समस्या का निवारण करेंगे। और ऐसी ही नई-नई ज्ञानवर्धक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारी वेबसाइट HindiNeer.com को फॉलो करें। धन्यवाद!

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here