Home हेल्थ & फिटनेस

एंटीबॉडी टेस्ट कैसे होता है? 2024 | एंटीबॉडी टेस्ट नार्मल रेंज

एंटीबॉडी टेस्ट: पूरे विश्व भर में कोरोना महामारी ने जिस प्रकार भयंकर तांडव मचाया है जिससे हम सब वाकिफ हैं लेकिन कैसे हम कोरोना महामारी से हमारा शरीर उभर रहा है, और कैसे करुणा के खिलाफ शरीर में एंटीबॉडी बनती जा रही है इसके बारे में आज हम चर्चा करेंगे आखिर क्या होता है यह एंटीबॉडी टेस्ट और इसे इसे करवाना चाहिए I

और यह शरीर में एंटीबॉडी किस प्रकार से अन्य बीमारियों के इलाज करने में कारगर साबित हो रही है, आज के इस आर्टिकल में हम आपको संपूर्ण विस्तार पूर्वक एंटीबॉडी क्या होती है Antibody Test करवाने से संबंधित सभी जरूरी जानकारी उपलब्ध करवाएंगे।

एंटीबॉडी टेस्ट कैसे होता है?

एंटीबॉडी किसे कहते हैं (Antibody Test Kaise Hota Hai)

सबसे पहले हम एंटीबॉडी को समझते हैं एंटीबॉडी हमारे शरीर में किसी भी बीमारी से लड़ने के लिए एक मजबूत इम्यून सिस्टम तैयार करता है, जैसे ही वह बीमारी पुनः हमारे शरीर में प्रवेश करती है तो अपने हमारे अपने शरीर की एंटीबॉडी उस बीमारी से लड़ने में सक्षम बन जाती है I और बीमारी से हमें बचाती है ।

शरीर में एंटीबॉडी का पता लगाने के लिए Antibody Test किया जाता है, जिससे कि किसी भी मनुष्य के शरीर से खून के सैंपल लिए जाते हैं और लेबोरेटरी में जांच के माध्यम से यह पता लगाया जाता है कि उस व्यक्ति के शरीर में किसी भी बीमारी से बचाने हेतु एंटीबॉडी बनी है या नहीं इसका पता सिर्फ Antibody Test के माध्यम से लगाया जा सकता है । एंटीबॉडी टेस्ट करने के लिए आपके शरीर से इंजेक्शन के माध्यम से खून निकाला जाता है ।

इन्हें भी पड़े-

एंटीबॉडी टेस्ट क्या होता है?

एंटीबॉडी टेस्ट करवाने वाले व्यक्ति के शरीर से ब्लड के सैंपल इंजेक्शन के माध्यम से कलेक्ट किए जाते हैं और लेबोरेटरी में अत्याधुनिक मशीनों से यह पता लगाया जाता है कि उसके खून में कोरोना से बचने हेतु एंटीबॉडी विकसित हुई है या नहीं ।

हम आपको बता दें कि rt-pcr की तरह नहीं होता है यह दोनों अलग अलग तरीके के टेस्ट है आरटी पीसीआर टेस्ट में किसी भी व्यक्ति के नाक और मुंह से सिंपल को लिया जाता है इसके विपरीत AT में खून के सेम्पल जाते हैं ।

एंटीबॉडी टेस्ट के फायदे

Antibody Test कराने से आपको कई प्रकार के फायदे मिलते हैं जिसकी जानकारी नीचे आपको बताई गई है ।

  • RT-PCR टेस्ट कराने के बाद उसके आने वाले परिणाम में काफी ज्यादा समय लगता है I
  • इसके विपरीत एंटीबॉडी टेस्ट करवाने में रिजल्ट काफी जल्दी मिल जाता है अर्थात इससे समय की बचत होती है ।
  • RT-PCR टेस्ट में एंटीबॉडी का पता लगाने में समस्या होती है लेकिन एंटीबॉडी टेस्ट ब्लड सैंपल के द्वारा करवाने पर रिजल्ट में 100% से अधिक पर सटिकता होती है ।
  • किसी भी व्यक्ति के रोग प्रतिरोधक क्षमता के बारे में पता लगाना एंटीबॉडी टेस्ट का मुख्य उद्देश होता है जिससे कि उस व्यक्ति में कोरोना हुआ है या नहीं इसके बारे में आसानी से जानकारी उपलब्ध हो जाती है ।

एंटीबॉडी टेस्ट के नुसान

विशेषज्ञों की मानें तो Antibody Test करवाने से आपको किसी भी प्रकार के नुकसान नहीं होते हैं, डॉक्टर भी किसी भी बीमारी के इलाज करवाने से पहले Antibody Test करवाने की सलाह देती है, इसके बाद ही एंटीबॉडी टेस्ट के अनुसार उस व्यक्ति का इलाज किया जाता है ।

Antibody Test करवाने में सिर्फ आपको सेम्पल लेते समय थोड़ी सी तकलीफ होती है, इसके अलावा फिर किसी भी तरीके की तकलीफ नहीं होती है।

आरटीपीसीआर टेस्ट और एंटीबॉडी टेस्ट में अंतर?

वैसे तो आप सब जानते होंगे कि आरटी पीसीआर टेस्ट और Antibody Test दोनों अपने आप में अलग तरीके के टेस्ट होते हैं, जहां बात करे R टेस्ट की तो इस टेस्ट में आपको इस ट्रिक के माध्यम से आपके नाक व मुंह से सलाइवा यानी लाल को निकाला जाता है और इसे लैब में पेश किया जाता है वहीं दूसरी ओर Antibody Test में आपके शरीर से खून को निकाला जाता है।

Antibody Test Results कैसे पता लगाते है?

Antibody Test Results का परिणाम जानने के लिए आपके द्वारा लिए की गए ब्लड को टेस्टिंग की महक पर डाला जाता है, और टेस्टिंग किट के द्वारा दिए गए नतीजों के अनुसार ही Antibody Test रिजल्ट का पता लगाया जाता है, इसमें परिणाम या तो किसी व्यक्ति का पॉजिटिव आता है या फिर नेगेटिव आता है ।

इन्हें भी पड़े-

एंटीबॉडी टेस्ट किट (Antibody Test Kit)

एंटीबॉडी टेस्ट किट एक प्रकार से शारीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता के बारे में पता लगाने का एक उपकरण है यह वाइट कलर की प्लेट होती है जिसमें एक ट्यूब होता है जिसके अंदर ब्लड के सैंपल डाले जाते हैं, और सिंपल डालने के बाद नतीजों का परिणाम लाइनों के अनुसार रिजल्ट मापा जाता है ।

एंटीबॉडी टेस्ट में आने वाला कुल खर्च

अगर आप एंटीबॉडी टेस्ट को किसी सरकारी हॉस्पिटल में करवाते हो तो उसके लिए आपको किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं देना होगा अगर आप यह एंटीबॉडी टेस्ट किसी प्राइवेट या स्वयं करना चाहते हैं तो एंटीबॉडी टेस्ट करवाने में आप का कुल खर्च 1000 से 1500 सो रुपए तक का आएगा ।

एंटीबॉडी टेस्ट नार्मल रेंज क्या होती है? [Antibody Test Result Range]

एंटीबॉडी टेस्ट नार्मल रेंज को जानने के लिए आपको यह चार प्रकार के अक्षर को समझना होगा जो कि इस प्रकार से है। C का मतलब होता है कनेक्शन । M का मतलब होता है ICM क्रिकेट में लाल रंग की पट्टी आती है तो M के सामने आती है। G और M और हम पट्टी दोनों के सामने अगर दिखाई देती है तो आपका कोरोना टेस्ट नेगेटिव आता है ।

G का मतलब होता है, ICMI यह एक प्रकार की एंटीबॉडी का साइन होता है अगर जीता अगर जG के सामने लाल पट्टी दिखाई देती है तो यह माना जाता है कि व्यक्ति में antibody बनी है I

कोरोना एंटीबॉडी टेस्ट क्यों किया जा रहा है?

अभी के समय में भारत में कोरोना की तीसरी लहर का खतरा बढ़ता जा रहा है ऐसे में कोरोना एंटीबॉडी टेस्ट ज्यादा मात्रा में इसीलिए करवाया जा रहा है, जिससे कि पता लगाया जा सके कि कोरोना से बचने के लिए लोगों में एंटीबॉडी बन रही है या नहीं इसी के आधार पर स्वास्थ्य विभाग को कोरोना के रोकथाम के लिए उपयुक्त निर्णय ले सकता है ।

हमारे एंटीबॉडी बढ़ाने के उपाय

अगर पुराना है बेचना चाहते हैं तो इसके लिए आपके शरीर में एंटीबॉडी का निर्माण होना बहुत जरूरी है और शरीर में एंटीबॉडी बढ़ाने के लिए आपको यह निम्न तरीके के उपाय को अपनाना चाहिए इस प्रकार से है-

  • सबसे पहले आपको पर्याप्त नींद लेनी चाहिए और सुबह जल्दी उठना चाहिए ।
  • योग कसरत करें ।
  • सुबह का नाश्ता करे जिसमें आपको ऐसी फ़ूड का चयन करना होगा।
  • खट्टे फल के साथ-साथ संतरा का भी सेवन करना चाहिए ।
  • अधिक से अधिक मात्रा में पानी को पीना चाहिए और अपनी दिनचर्या में स्वास्थ्य खाने का चयन करना होगा ।

एंटीबॉडी टेस्ट से सम्बंधित सवाल-जवाब

एंटीबॉडी टेस्ट का रिजल्ट में कितना समय लगता है?

एंटीबॉडी टेस्ट का रिजल्ट आने में 5 मिनट से भी कम का समय लगता है ।

एंटीबॉडी टेस्ट करवाना सही रहता है?

एंटीबॉडी टेस्ट करवाना सही रहता है इससे समय रहते यह पता चल जाता है कि उस व्यक्ति में कोरोना वायरस है या नहीं I

एंटीबॉडी टेस्ट के लिए सैंपल कैसे लेते है?

एंटीबॉडी टेस्ट के लिए सैंपल के तौर पर आपका खून को लिया जाता है।

कोविड वैक्सीनेशन के बाद शरीर में एंटीबॉडी बन रहे है की नही,इसके टेस्ट कैसे होंगे?

कोविड वैक्सीनेशन के बाद शरीर में एंटीबॉडी का पता लगाने के लिए आप एंटीबॉडी टेस्ट के जरिए पता लगा सकते हो ।

माइक्रोबायोलॉजी एंटीबॉडी टेस्ट क्या है?

माइक्रोबायोलॉजी एंटीबॉडी टेस्ट का मतलब यह होता है कि सूक्ष्मदर्शी यंत्र के माध्यम से यह पता लगाया जाता है कि आपके शरीर में एंटीबॉडी विकसित हो रही है या नहीं।

एंटीबॉडी टेस्ट की लिमिट क्या है ?

एंटीबॉडी की लिमिट होती है जिससे यह पता लगाया जाता है कि उस व्यक्ति में एंटीबॉडी बनी है या नहीं।

एंटीबॉडी टेस्ट क्या है और उसका रिजल्ट क्या आना चाहिए?

एंटीबॉडी टेस्ट वह होता है जिसे किसी भी व्यक्ति के बारे में यह पता लगाने में सफलता हासिल होती है कि उस व्यक्ति में किसी भी बीमारी से लड़ने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता बनी है या नहीं I

निष्कर्ष (Conclusion)

अब आप इस को पूरा पढ़कर यह जान गए होंगे कि एंटीबॉडी टेस्ट क्या है और इसके परिणाम क्या होते हैं और इसे करवाना क्यों जरूरी होता है इससे संबंधित सभी जानकारी आप तक पहुंच गई होगी ।

अगर यह जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी है तो अपने मित्रों को अवश्य शेयर करें और इससे संबंधित और भी जानकारी के लिए नीचे कमेंट में कमेंट करें । और ऐसी ही ज्ञानवर्धक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारी वेबसाइट hindinear.com को फॉलो करें I

5/5 - (1 vote)

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version