बगुला भगत और केकड़ा की कहानी | Bagula Bhagat Aur Kekda ki Kahani

बगुला भगत और केकड़ा की कहानी: नमस्कार दोस्तों वैसे तो अपने पंचतंत्र से जुड़ी कई कहानियों को पढ़ा हुआ जिससे कि इन कहानियों से आपको मनोरंजन और शिक्षा दोनों प्राप्त हुई होगी। आज हम आपको बगुला भगत और केकड़े (Bagula Bhagat Aur Kekda ki Kahani)की एक ऐसी पंचतंत्र की कहानी सुनाने वाले हैं। जिससे कि आपको इस कहानी से मिलने वाली शिक्षा से संबंधित ज्ञानवर्धक जानकारी मिलने वाली है।

कृपया इस कहानी को पूरा पड़े जिससे कि आप इस कहानी से मिलने वाली शिक्षा को अपने जीवन में सके। अगर यह हिंदी कहानी आपको अच्छी लगी है तो अपने मित्रों को जरुर शेयर करना।

बगुला भगत और केकड़ा की कहानी के बारे में

कहानी का शीर्षकबगुला भगत और केकड़ा की कहानी
कहानी के पात्रबगुला और एक केकड़ा
विषयमित्रता, सहायता, और सहयोग समर्पण
भाषा हिदी
हिंदी कहानी का संग्रह क्लिक करे

बगुला भगत और केकड़ा की कहानी

बगुला भगत और केकड़ा एक प्रसिद्ध हिंदी कहानी है, जिसमें एक बगुला (एक पक्षी) और एक केकड़ा (जलीय जीव) के बीच की दोस्ती की कहानी है। इस कहानी के माध्यम से मानवों को मित्रता की महत्वपूर्ण शिक्षा दी जाती है।

बगुला भगत और केकड़ा की कहानी

कहानी की शुरुआत एक खूबसूरत जंगल में होती है, जहां एक बगुला नामक पक्षी रहता था। बगुला जंगल के आस-पास के सभी पशुओं के साथ दोस्ती करता था और वह उनके साथ बिना दर के फिरता था।

एक दिन, बगुला जंगल की दूसरी ओर किनारे पर अपने दोस्त केकड़ा के पास पहुंचा। केकड़ा एक धीमे गति से अपने घर की ओर बढ़ रहा था। बगुला ने देखा कि केकड़ा बहुत थक गया और उसकी मदद की आवश्यकता थी। इस पर बगुला ने केकड़ा को अपनी मदद की पेशकश की।

केकड़ा ने बगुला की मदद स्वागत की और उसके साथ एक महीने तक उसकी सहायता की। इसके बाद, बगुला ने केकड़ा को धन्यवाद दिया और उसे अपने पंखों पर झूलने की इजाजत दी। केकड़ा ने बगुला की इजाजत के साथ उसके पंखों पर झूला लगाया और वे साथ में झूलने लगे।

इसके बाद, बगुला और केकड़ा की दोस्ती और मजबूत हुई और वे साथ में बड़े खुश रहने लगे। इस कहानी का संदेश है कि दोस्ती में सहायता और समर्थन का महत्व होता है, और जब हम दूसरों की मदद करते हैं, तो हमारे बीच की दोस्ती और मजबूत होती है।

यह कहानी हमें क्या सिखाती है?

यह कहानी हमें कई महत्वपूर्ण सिख देती है-

  1. मित्रता का महत्व: कहानी हमें यह सिखाती है कि मित्रता किसी भी संबंध का मूल है और दोस्तों के बीच में साथीपन और समर्थन का महत्व होता है।
  2. सहायता करने का महत्व: बगुला ने केकड़ा की मदद की और उसके साथ दोस्ती करने का मौका दिया। इससे हमें यह सिखने को मिलता है कि हमें दूसरों की मदद करना चाहिए, जो वास्तव में हमारे रिश्तों को मजबूत बना सकता है।
  3. धन्यवादी होने का महत्व: केकड़ा ने बगुला की मदद की और उसके प्रति आभार दिखाया, जिससे संबंधों में समर्थन और विश्वास बढ़ता है।
  4. समर्पण और साझा करने का महत्व: बगुला और केकड़ा ने अपने समय और संसाधनों को साझा किया और एक-दूसरे के साथ खुश रहने का मौका दिया।
  5. समझदारी: केकड़ा ने बगुला की मदद की, लेकिन उसने अपनी मदद की कीमत भी समझी और बगुला के साथ साझा किया। यह सिखाता है कि हमें समझदारी और सहयोग की मान्यता करनी चाहिए।

इन कहानी को भी पड़े-

  1. तकदीर का खेल की कहानी
  2. बेस्ट फ्रेंड की कहानी
  3. नाली रामा की कहानी
  4. परियों की कहानी 
  5. 10+ जादुई कहानी मजेदार
  6. ज्ञानवर्धक हिंदी कहानी का संग्रह कथा, स्टोरी
कहानी का मुख्य संदेश है कि मित्रता, सहायता, और सहयोग समर्पण से बढ़ते हैं और हमें एक-दूसरे के साथ खुश और मजबूत रिश्तों की सीख देते हैं।

बगुला भगत और केकड़ा की कहानी से जुड़े सवाल जवाब

  1. बगुला भगत मुहावरे का क्या अर्थ है?

    जिसका अर्थ होता है “अच्छूत, भटकते, या अविश्वासी व्यक्ति”।

  2. इस कहानी से हमने क्या सिखा?

    मित्रता, सहायता, और सहयोग समर्पण से बढ़ते हैं।

  3. बगुले को बगुला भगत क्यों कहते हैं?

    बगुला एक ऐसा पक्षी होता है जो जलाशय के किनारे एक पैर पर खड़ा रहता है मानो वह भक्ति कर रहा है। लेकिन ज्यों ही उसकी नजर शिकार पर पड़ी तो तुरंत उसपर झपटा मारता है। जो मनुष्य इस तरह के होते हैं उन्हें बगुला भक्त कहा जाता है।

इस कहानी को जरुर शेयर कीजिये

5/5 - (1 vote)
Previous articleअकबर बीरबल की कहानी | Akbar Birbal ki Kahani In Hindi
Next articleजादुई मछली की कहानी | Jadui Machli ki Kahani Hindi
हेलो दोस्तों! में Mayur Arya [hindineer.com] का Author & Founder हूँ। में Computer Science (C.s) से ग्रेजुएट हूँ। मुझे latest Topic (हिन्दी मे) के बारे में जानकारी देना अच्छा लगता है। और में Blogging क्षेत्र में वर्ष 2018 से हूँ। इस ब्लॉग के माध्यम से आप सभी का ज्ञान का स्तर को बढाना यही मेरा उद्देश्य है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here