डरपोक चूहा की कहानी | Darpok Chuha ki Kahani Hindi

डरपोक चूहा की कहानी: नमस्कार दोस्तों कहानी यह एक ऐसी मनोरंजन का साधन होता है जिसे पढ़कर आपको नैतिक शिक्षा के साथ-साथ जीवन में कई सारी मुख्य जरूरी शिक्षाएं भी मिलती है । आज हम आपको एक ऐसी ही ज्ञानवर्धक डरपोक चूहे की कहानी के बारे में बताने जा रहे हैं । इस कहानी को पूरा पढ़कर आपको इस कहानी से बहुत अच्छे-अच्छे ज्ञानवर्धक बातें जानने को मिलेगी।

अगर आपको यह  हिंदी कहानी अच्छी लगी है तो अपने मित्रों को जरूर सुनना और समाज में अन्य दूसरों लोगों को भी इस कहानी को शेयर करना जिससे कि इस कहानी से उन्हें भी ज्ञानवर्धक नैतिक शिक्षा प्राप्त हो सके ।

तो आईए जानते हैं डरपोक चूहे की इस कहानी के बारे में तो चले आईए जानते हैं इस कहानी समय कौन-कौन सी मुख्य नैतिक शिक्षा मिलने वाली है।

डरपोक चूहा की कहानी के बारे में

कहानी का शीर्षकडरपोक चूहा की कहानी
कहानी के पात्रचूहा और बिल्ली
विषयसाहस और आत्मविश्वास
भाषा हिदी
हिंदी कहानी का संग्रह क्लिक करे

डरपोक चूहा की कहानी (Darpok Chuha ki Kahani)

बहुत समय पहले की बात है, एक गांव में एक चूहा रहता था। वह बड़ा ही सुंदर और चालाक था, लेकिन एक बड़ी ही समस्या थी – वह डरपोक था। चूहा अपनी छाल के पीछे छिपकर हमेशा सुरक्षित रहने की कोशिश करता था और वह किसी भी आपत्ति से बचने के लिए कभी कुछ नहीं करता था।

डरपोक चूहा की कहानी

एक दिन, गांव में एक खतरनाक बिल्ली आई। बिल्ली ने गांव के चूहों को पकड़ना शुरू किया और वे बचकर नहीं सके। डरपोक चूहा भी डरकर छाल के पीछे छिप गया, लेकिन उसकी दिल में एक अजीब सी बात घट रही थी।

वह देखा कि उसके गांव के दूसरे चूहे बिल्ली से बचने के लिए साथ मिलकर उसके खिलवाड़े कर रहे थे। वे आपस में मिलकर बिल्ली को डराने की कोशिश कर रहे थे।

यह दृश्य डरपोक चूहे के मन में कुछ बदल दिया। वह समझ गया कि डरने से कुछ नहीं होगा और उसको अपने दोस्तों के साथ मिलकर बिल्ली को डराना होगा।

इसके बाद, डरपोक चूहे ने अपने दोस्तों के साथ एक योजना बनाई और बिल्ली के खिलवाड़े करने के लिए उन्होंने साथ मिलकर काम किया। उन्होंने बिल्ली को डरा दिया और उसे गांव से भगाया।

इसके बाद, डरपोक चूहे ने सीखा कि समस्याओं से भागने की बजाय, उन्हें सामना करना चाहिए। वह अपने दोस्तों के साथ एक मजबूत समुदाय बना और उन्होंने अपने डर को पार किया।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि हमें अपने डरों का सामना करना चाहिए और उन्हें पार करने की कोशिश करनी चाहिए, बजाय उनसे भागने की। डरपोकता रहने से कुछ नहीं होता, लेकिन साहस दिखाने से हम समस्याओं का समाधान निकाल सकते हैं।

इन कहानी को भी पढ़े-

  1. तकदीर का खेल की कहानी
  2. बेस्ट फ्रेंड की कहानी
  3. नाली रामा की कहानी
  4. परियों की कहानी 
  5. 10+ जादुई कहानी मजेदार
  6. हाथी और रस्सी की कहानी
  7. सांप और चींटी की कहानी
  8. ज्ञानवर्धक हिंदी कहानी का संग्रह कथा, स्टोरी

यह कहानी हमें क्या सिखाती है?

डरपोक चूहे की इस कहानी से हमें बहुत ही अच्छी-अच्छी नैतिक शिक्षा मिलती है जिसे हम नीचे आपको लिस्ट के माध्यम से उपलब्ध करवा रहे हैं ।

  1. साहस और आत्मविश्वास: डरपोक चूहे की कहानी हमें यह सिखाती है कि हमें अपने डरों का सामना करने के लिए साहस और आत्मविश्वास रखना चाहिए। जब हम अपने डरों का सामना करते हैं, तो हम सीखते हैं कि हम कितने महान काम कर सकते हैं।
  2. समर्पण और टीमवर्क: कहानी में दिखाया गया है कि समस्याओं का समाधान हमें अकेले नहीं, बल्कि टीम के साथ करना चाहिए। डरपोक चूहे ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर बिल्ली को हराया, जिससे हमें समर्पण और साझेदारी की महत्वपूर्ण भूमिका का समझाया गया है।
  3. समस्याओं का समाधान: हमें यह सिखने को मिलता है कि समस्याओं का समाधान ढूंढने के लिए हमें ब्रेवरी और क्रिएटिविटी का सहारा लेना चाहिए। डरपोक चूहे ने अपने डर को पार किया और अद्भुत रूप से समस्या का समाधान निकाला।
  4. समुदाय और सामाजिक सहयोग: कहानी में दिखाया गया है कि एक समुदाय या समाज में सहयोग और समर्थन की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। डरपोक चूहे ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर समस्या का समाधान किया, जिससे समाज में एकता और सहयोग का संदेश दिखाया गया।

इसके आलावा, कहानी हमें यह भी सिखाती है कि हमें अपने डरों को पार करने के लिए आगे बढ़ना चाहिए और जीवन में सामर्थ्य का आभास करना चाहिए।

डरपोक चूहा की कहानी से जुड़े सवाल जवाब

  1. इस कहानी में चूहे का चरित्र कैसा बताया गया है?

    इस कहानी में चूहे का चरित्र डरपोक बताया गया है ।

  2. इस कहानी से हमने क्या सिखा?

    इस कहानी समय दर पर जीत हासिल करने की शिक्षा मिलती है । हमेशा हमें जीवन में साहस और आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ना चाहिए ।

इस कहानी को जरुर शेयर कीजिये

हमें आशा है कि आप डरपोक चूहे की कहानी को पढ़कर आपको इस कहानी से बहुत अच्छे-अच्छे नैतिक शिक्षा प्राप्त हुई होगी । अगर आप इस कहानी को अन्य लोगों को भी शेयर करोगे तो हमारा यह पोस्ट लिखना सार्थक होगा ।

और ऐसी ही नई-नई ज्ञानवर्धक हिंदी में कहानी प्राप्त करने के लिए हमारी वेबसाइट HindiNeer.com को फॉलो कीजिए ।

Rate this post
Previous articleफ्री फायर गेम डाउनलोड कैसे करे? (आसान तरीका) | Free Fire MAX download kaise kare?
Next articleसुंदर राजकुमारी की कहानी | Sunder Rajkumari Ki kahani Hindi
हेलो दोस्तों! में Mayur Arya [hindineer.com] का Author & Founder हूँ। में Computer Science (C.s) से ग्रेजुएट हूँ। मुझे latest Topic (हिन्दी मे) के बारे में जानकारी देना अच्छा लगता है। और में Blogging क्षेत्र में वर्ष 2018 से हूँ। इस ब्लॉग के माध्यम से आप सभी का ज्ञान का स्तर को बढाना यही मेरा उद्देश्य है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here