परम विशिष्ट सेवा मेडल किसे मिलता है? | Param Vishisht Seva Medal in Hindi

परम विशिष्ट सेवा मेडल: हमारी भारतीय सेना हमारे सैनिकों को उनकी बहादुरी साहसिक कर्म और उनकी असाधारण उपलब्धियों के लिए कई प्रकार के सेवा मंडल को उन्हें प्रदान करती रहती है जिससे कि उनका हौसला बढ़ता है, और देश में अन्य ऐसे अन्य सैनिकों को भी इस प्रकार के कार्य करने के लिए प्रेरणा मिलती रहती है अभी हाल ही में आर्मी के श्री नीरज चोपड़ा जिन्होंने पैरा ओलंपिक में जैवलिन थ्रो में भारत को गोल्ड मिलाकर पूरे भारत का सिर ऊंचा किया है I

उन्हें अभी हाल ही में परम विशिष्ट सेवा मेडल से नवाजा गया है । आज की इस लेख में हम आपको बताएंगे कि परम विशिष्ट सेवा मेडल किसे मिलता है? और यह क्या होता है और क्यों मिलता है इससे संबंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे बताए गए समस्त जानकारी को पूरा पड़े जिससे की आम आदमी के इस असाधारण परम विशिष्ट सेवा मेडल के बारे में जानकारी मिल सकेगी ।

परम विशिष्ट सेवा मेडल किसे मिलता है? [2022]

परम विशिष्ट सेवा मेडल क्या है?

परम विशिष्ट सेवा मेडल भारत का एक सैन्य पुरस्कार है जिसे शांति और सेवा क्षेत्र में सबसे असाधारण कार्य के लिए सम्मानित किए जाने के रूप में दिया जाता है, यह परम विशिष्ट सेवा पदक सभी रैंक के प्रादेशिक सेना सहायक और रिजर्व बल नर्सिंग अधिकारी और अन्य सदस्यों के नर्सिंग सेवाओं और उनकी समस्त सशस्त्र बलों के लिए यह पदक प्रदान करवाया जाता है I

इस पदक को किसी भी व्यक्ति के मरणोपरांत के बाद भी दिया जा सकता है, इस पर पदक की शुरुआत 26 जनवरी 1960 से शुरू हुई थी इस पद पदक को तब से लेकर अब तक पुरस्कार के रूप में दिया जा रहा है । अभी हाल ही में इस पदक को सेवा क्षेत्र में असाधारण कार्य करने वाले रक्षा कर्मियों में मुख्य नाम जेवलिन थ्रो विजेता नीरज चोपड़ा को इस पद के रूप में सम्मानित किया गया है ।

इन्हें भी पड़े-

परम विशिष्ट सेवा मेडल किसे मिलता है?

भारत के इस सैनिक पुरस्कार परम विशिष्ट सेवा मेडल (PVSM) को सेना के भारत प्रादेशिक सेना रिजल्ट बोलो सहायक पल नर्सिंग अधिकारियों और नर्सिंग सेवाओं के अन्य सदस्यों को यह सम्मान दिया जाता है । इसमें भारतीय सशस्त्र बलों के सभी कर्मियों को इस पुरस्कार के मिलने की पात्रता होती है ।

  • प्रादेशिक सेना
  • सहायक और रिजर्व बलों
  • नर्सिंग अधिकारियों
  • अन्य सदस्यों के नर्सिंग सेवाओं
  • अन्य विधिवत् गठित सशस्त्र बल

परम विशिष्ट सेवा पदक का इतिहास

भारत के इस अद्भुत परम विशिष्ट सेवा मेडल की शुरुआत 26 जनवरी 1960 को बीएमएस के रूप में की गई थी यह एक असाधारण कोटि की विशिष्ट सेवा कार्यों और शांति के लिए सम्मानित किए जाने के लिए दिया जाता था और समय के साथ साथ 27 जनवरी 1967 को उसका नाम परम विशिष्ट सेवा मेडल कर दिया गया ।

परम विशिष्ट सेवा पदक की बनावट और आकार

तो यह बात करते हैं कि परम विशिष्ट सेवा पदक का कार्य किस प्रकार से होता है तो इस प्रकार इस पदक का अकार इस तरह से है ।

  • इसका अकार गोलाकार होता है जिसका कुल व्यास 35 मिली का होता है I
  • जिसके ऊपर एक सादी हरी पट्टी लगी होती है और इसकी फिटिंग स्टैंडर्ड होती है ।
  • इसका रंग सुनहरे का होता है और इस पदक के सामने वाले भाग में 5 नोक वाले सितारे की आकृति बनी होती है ।
  • और इसके पीछे वाले भाग में एक राज्य चिन्ह बना होता है और ऊपरी हिस्से में इस पदक का नाम गुदा हुआ होता है ।
  • इसके विभिन्न के फीते का रंग सुनहरा होता है और बीच में गहरे नीले रंग की एक सीधी पट्टी होती है जो दो बराबर भागों में बटी हुई रहती है ।

परम विशिष्ट सेवा पदक की पात्रता

  • परम विशिष्ट सेवा मेडल भारती सैना सशस्त्र बलों को इस मॉडल का सम्मान दिया जाता है ।
  • इस मैडल को प्राप्त करने वाला सैनिक असाधारण कोटि और विशिष्ट सेवा प्रधान प्रदान किए करने पर इस मिडिल को दिया जाता है ।
  • भारतीय सेना जिसमें वायु सेना थल सेना और जल सेना इसके अलावा सेना यूनिटों सहायक और रिजर्व सेना कानूनी रूप से गठित सेना और अन्य रिजर्व अफसर और जवान इस मेडल को प्राप्त करने की प्रतिभागी होते हैं ।

परम विशिष्ट सेवा मेडल पाने वाले की सूची

हमारे पास मिली जानकारी के अनुसार अभी तक जिन भी लोगों ने परम विशिष्ट मेडल प्राप्त की है उसकी नामों की सूची नीचे आपको दी गई है इन नामों के अतिरिक्त अतिरिक्त जो भी नाम बच रहे उनके लिंक नीचे दी है जिसे आप क्लिक करके समस्त नामों की सूची जान सकते हो ।

  • नीरज चोपड़ा
  • सेना के उप-प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे
  • Ajendra Bahadur Singh,
  • Ravneet Singh,
  • SN Ghormade,
  • R Hari Kumar
  • MS Pawar,
  • SR Sarma
  • Anil Kumar Chawla,
  • G Ashok Kumar
  • Atul Kumar Jain
  • Ajit Kumar P
  • Gurtej Singh Pabby
  • Ajay Kumar Saxena

ऊपर बताए गए परम विशिष्ट सेवा मेडल प्राप्त करने वाले विजेताओं की और भी अन्य नामों की सूची जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लिंक को क्लिक करें । और नाम जाने

परम विशिष्ट सेवा मेडल से सम्बंधित सवाल

  1. परम विशिष्ट सेवा पदक 2022 में किसे मिला?

    वर्ष 2022 में परम विशिष्ट सेवा मेडल को प्राप्त करने वाले नीरज चोपड़ा और सेना के उप प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे है I

  2. परम विशिष्ट सेवा पदक किसे दिया जाता है?

    परम विशिष्ट सेवा पदक सशस्त्र सीमा बल और भारतीय सेनाओं के समस्त रेंज के अधिकारी और जवानों को उनकी असाधारण कार्य और सेवा के लिए यह पदक दिया जाता है ।

  3. परम विशिष्ट सेवा मेडल किस तारीख को दिया जाता है?

    परम विशिष्ट सेवा मेडल प्रतिवर्ष 26 जनवरी को प्रदान किया जाता है ।

  4. अब तक कुल कितने परम विशिष्ट सेवा मेडल दिए जा चुके है?

    अभी तक हमारे पास इस पदक को कितने लोगों को दिए जा चुके हैं इसकी जानकारी हमारे पास अभी तक उपलब्ध नहीं है।

  5. नीरज चोपड़ा को कौनसा मैडल दिया गया है?

    भारत के नीरज चोपड़ा को परम विशिष्ट सेवा मेडल प्रदान किया गया है ।

  6. भारतीय सेना के अतिरिक्त ये मैडल किसे दिया जाता है?

    भारतीय सेना के अतिरिक्त यह मेडल प्रदेशिक सेना यूनिक सहायक और जल सेना कानूनी रूप से चयनित अन्य सेना और सभी रंको के अफसरों और जवानों को यह मेडल प्रदान किया जाता है ।

निष्कर्ष (Conclusion)

अब आप इस लेख को पूरा पढ़ कर भारतीय सेना के परम विशिष्ट सेवा मेडल क्या होता है यह किसे मिलता है इससे जुड़ी समस्या प्रकार की जानकारी आपको प्राप्त हो गई होगी । अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी है तो अपने मित्रों को अवश्य शेयर करें और परम विशिष्ट सेवा मेडल से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या और प्रश्न है तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें ।

और ऐसे ही ज्ञानवर्धक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारी वेबसाइट hindinear.com को फॉलो करें I

Rate this post
Previous articleमोटू पतलू की कहानी | Motu Patlu ki Kahani Hindi
Next articleछोटी राजकुमारी की कहानी | Chhoti Rajkumari ki Kahani
हेलो दोस्तों! में Mayur Arya [hindineer.com] का Author & Founder हूँ। में Computer Science (C.s) से ग्रेजुएट हूँ। मुझे latest Topic (हिन्दी मे) के बारे में जानकारी देना अच्छा लगता है। और में Blogging क्षेत्र में वर्ष 2018 से हूँ। इस ब्लॉग के माध्यम से आप सभी का ज्ञान का स्तर को बढाना यही मेरा उद्देश्य है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here